भारत के पूर्व ओपनर बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने धोनी (dhoni) को लेकर किया खुलासा…..

भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग का मानना है कि राहुल द्रविड़ से पड़ी फटकार ने बल्लेबाजी को लेकर महेंद्र सिंह धौनी का नजरिया बदल दिया 1 में आपको बता दूं कि MS धोनी राहुल द्रविड़ की कप्तानी (2006-07) के दिनों ही एक बड़े हिटर से मैच- फिनिशर में तब्दील हुए।

पाकिस्तान के खिलाफ 123 गेंद पर खेली गई 148 रन की पारी ने दिलाई पहचान

MS धौनी ने अप्रैल 2005 में पाकिस्तान के खिलाफ 123 गेंद पर 148 रन की पारी खेली थी। इस पारी ने उन्हें विश्व क्रिकेट बीके मंच पर पहचान दिलाई थी। धोनी ने उसी साल उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ 183 रन बनाए थे। हालांकि कुछ ही साल में धोनी ने अपनी आक्रामकता पर लगाम लगाई और एक कूल फिनिशर के रूप में पहचान बनाई।

यह सब कैसे हुए वीरेंद्र सहवाग ने इसकी पूरी कहानी सुनाई। उन्होंने इंडिया टीवी के साथ बातचीत में कहा कि धौनी ने अपना खेल तब्दील किया जब उन्हें मैदान में अंत तक रहने की जिम्मेदारी दी गई। सहवाग ने कहा कि एक विकेटकीपर बैट्समैन के लिए अपने नैसर्गिक खेल पर लगाम लगाना आसान नहीं होता है।

द्रविड़ की कप्तानी में मिला फिनिशर का रोल

वीरेंद्र सहवाग ने कहा कि उन्हें द्रविड़ की कप्तानी में फिनिशर का रोल दिया गया। लेकिन MS धोनी(dhoni) एक खराब शाट खेलकर फिर से आउट हुए तो द्रविड़ ने धौनी को डांट लगाई थी। तब से मेरा मानना है कि उस घटना ने धौनी को बदल दिया। 2006-07 के करीब वह बदल गए और जिम्मेदारी लेकर मैच खत्म करने लगे।

सहवाग ने माना कि पूर्व भारतीय विकेटकीपर धोनी(dhoni) ओर युवराज की जोड़ी ने भारत की रनों का पीछा करते हुए हासिल की गईं लगातार 16 जीत में अहम भूमिका निभाई। सहवाग ने यह भी बताया कि उन्हें भी सचिन तेंदुलकर और जवागल श्रीनाथ ने दक्षिण अफ्रीका में इसी वजह से डांट लगाई थी। इससे उनके नजरिये में भी बदलाव आया।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *